Question List UPSC

  • फ्लश टायलेट के अविष्कार के 100 साल बाद भी आज दुनिया में मात्र 15 प्रतिशत लोगों के पास ही फ्लश टायलेट हैं। भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में मात्र 3 प्रतिशत लोगों के पास ही फ्लश टायलेट हैं और शहरों में यह आंकड़ा 25 प्रतिशत तक ही सिमट के रह जाता है। वर्ष 2013 में भारत सरकार ने हाथ से मैला उठाने की प्रथा को प्रतिबंधित कर दिया था। यही कारण है कि भारतीय रेलवे में भी मल संबंधित सभी कार्य मशीन द्वारा ही कराये जाते हैं। स्वच्छता एवं स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए भारतीय रेलवे ने ट्रेनों में बायो टॉयलेट्स या जैविक शौंचालय का लगाने का निश्चय किया है। वर्ष 2016-17 के रेल बजट में तत्कालीन रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने डिब्रूगढ़ राजधानी ट्रेन का उल्लेख किया था जिसमें उन्होंने कहा था यह दुनिया की पहली बायो वैक्यूम टॉयलेट ट्रेन है।

    1 . भारत के ग्रामीण इलाकों में कितने प्रतिशत लोग फ्लश टायलेट का इस्तेमाल करते हैं?

    (A). 10 प्रतिशत

    (B). 8 प्रतिशत

    (C). 5 प्रतिशत

    (D). 3 प्रतिशत

    उत्तर देखें
    सम्बन्धित प्रश्न
  • निम्नलिखित को धयान मे रखते हुए:

    1. राष्ट्रीय बागवानी मिशन (एनएचएम)

    2. राष्ट्रीय बांस मिशन (एनबीएम)

    3. राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड (एनएचबी)

    4. नारियल विकास बोर्ड (सीडीबी)

    2 . बागवानी के एकीकृत विकास (एमआईडीएच) के मिशन के तहत उपरोक्त में से कौन सा उपज है?

    (A). केवल 1 और 2

    (B). केवल 1 और 4

    (C). केवल 1, 2 और 4

    (D). 1, 2, 3 और 4

    उत्तर देखें
  • 'थांगका पेंटिंग्स' के बारे में निम्नलिखित बयानों पर विचार करें:

    1. थांगका पेंटिंग कपास, या रेशम applique पर एक सिक्किम और तिब्बती बौद्ध चित्रकला है।

    2. थांगका में उपयोग किए जाने वाले रंगों का कोई महत्व नहीं है।

    3. थांगका बुद्ध, विभिन्न प्रभावशाली लामा और अन्य देवताओं और बोधिसत्व के जीवन को दर्शाते हुए महत्वपूर्ण शिक्षण उपकरण के रूप में कार्य करता है।

    3 . ऊपर दिए गए बयान में से कौन सा सही / सही है?

    (A). केवल 1

    (B). केवल 1 और 3

    (C). 1, 2 और 3

    (D). केवल 2 और 3

    उत्तर देखें